February 23, 2024

एआईआरएफ के आह्वान पर ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन द्वारा किए गए दो दिवसीय स्ट्राइक बैलेट कार्यक्रम बुधवार देर शाम तक संपन्न हो गया। यह स्ट्राइक बैलेट धनबाद मंडल के 14 शाखाओं के साथ-साथ पूर्व मध्य रेलवे के पांचों मंडल तथा पूरे भारतीय रेल में एक साथ संपन्न हुआ ।

धनबाद: एआईआरएफ के आह्वान पर ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन द्वारा किए गए दो दिवसीय स्ट्राइक बैलेट कार्यक्रम बुधवार देर शाम तक संपन्न हो गया। यह स्ट्राइक बैलेट धनबाद मंडल के 14 शाखाओं के साथ-साथ पूर्व मध्य रेलवे के पांचों मंडल तथा पूरे भारतीय रेल में एक साथ संपन्न हुआ। एआईआरएफ के वार्षिक सम्मेलन में लिए गए निर्णय के आधार पर ईसीआरकेयू द्वारा एनपीएस को हटाकर पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग को लेकर सरकार की उदासीनता के विरोध में रेलवे हड़ताल पर जाने के लिए रेलकर्मियों से उनके विचार जानने के लिए कराया गया है। धनबाद के तीनों शाखा सहित धनबाद मंडल के सभी शाखाओं द्वारा आयोजित इस मतदान अभियान में 98.2% रेलकर्मियों ने नये पेंशन को समाप्त कर सभी को सुनिश्चित पुराने पेंशन योजना के लाभ की मांग को सरकार द्वारा नहीं माने जाने की स्थिति में रेल हड़ताल पर जाने के निर्णय का जोरदार समर्थन किया है। जबकि पूर्व मध्य रेलवे के सभी मंडलों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 99.2% रेलकर्मियों ने उक्त मामले में रेल हड़ताल पर जाने की सहमति जताई है। इस विशाल बहुमत के बाद अब पुराने पेंशन की मांग को लेकर जनवरी फरवरी 2024 में राष्ट्रव्यापी रेल हड़ताल के लिए फेडरेशन द्वारा तारीख की घोषणा की जाएगी।
उक्त जानकारी देते हुए ईसीआरकेयू के अपर महामंत्री मो ज़्याऊद्दीन ने कहा कि पूर्व मध्य रेलवे के सभी 54 शाखाओं के सक्रिय सहयोग से पूरे जोन में संपन्न हुए वोटों का गिनती कर पटना स्थित ईसीआरकेयू के मुख्य कार्यालय को भेजा गया । इस प्रकार वहाँ से सभी पांचों मंडलों का परिणाम संकलन कर एआईआरएफ के मुख्य कार्यालय को नई दिल्ली भेज दिया गया। जहाँ पूरे भारत से प्राप्त परिणाम के आकलन के बाद फिर वहां से इसका जो निर्णय लिया जाएगा उसी पर सभी जोन, मंडल और शाखा अमल करेंगे।
मौके पर एआईआरएफ के जोनल सेक्रेटरी सह ईसीआरकेयू के केन्द्रीय कोषाध्यक्ष ओ पी शर्मा ने बताया कि युवा रेलकर्मियों में वर्तमान पेंशन योजना को लेकर काफी आक्रोश है। इन युवाओं का कहना है कि अपने परिश्रम से जमा किये गए राशि पर अपना ही अधिकार नहीं है। न वर्तमान में इसका उपभोग कर पाते हैं और न ही सेवानिवृत्ति पर जीवन यापन करने के लिए समुचित राशि मिलती है, तब इन परिस्थितियों में इस योजना को समाप्त कर पुराने पेंशन को बहाल करने से ही रेलकर्मियों का भविष्य सुरक्षित रह सकता है। बड़ी संख्या में हुए मतदान के परिणाम के मद्देनजर केन्द्र सरकार को जल्द से जल्द सभी सरकारी सेवकों को पुराने पेंशन का लाभ देने की घोषणा करनी चाहिए ।
ईसीआरकेयू के अध्यक्ष डी के पांडेय और महामंत्री एस एन पी श्रीवास्तव और धनबाद तीनों शाखा के पदाधिकारी नेताजी सुभाष,बीके दुबे,एनके खवास और सोमेन दत्ता,पूर्व मध्य रेलवे के सभी शाखा सचिवों, पदाधिकारियों, युवा और महिला समिति के सक्रिय सदस्यों तथा रेलकर्मियों को उनकी सहभागिता के लिए धन्यवाद दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *