February 23, 2024

जग्गी भाई रचनात्मक कार्य करने में माहिर थे। विद्यालय चलाने के साथ-साथ जग्गी भाई के विभिन्न स्कूलों में बच्चों को क्वीज का ज्ञान देते थे। वर्ष 1993 में कतरास में साक्षरता जागरूकता रैली का आयोजन एवं तत्कालीन उपायुक्त व्यासजी को लाने में जग्गी भाई का अहम योगदान रहा है। कतरास से दिल्ली तक पदयात्रा उनका अहम कार्यक्रम था।

कतरास : समाज और शिक्षा को समर्पित उत्कृष्ट सेवक, स्वाधीनता सेनानी सरदार स्व. इंदर सिंह का पुत्र जगजीत सिंह उर्फ जग्गी भाई के निधन की समाचार सूनकर मर्माहत हूं। जग्गी भाई को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ईश्वर से उनकी दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करने की कामना करते हैं। जग्गी भाई रचनात्मक कार्य करने में माहिर थे। विद्यालय चलाने के साथ-साथ जग्गी भाई के विभिन्न स्कूलों में बच्चों को क्वीज का ज्ञान देते थे। वर्ष 1993 में कतरास में साक्षरता जागरूकता रैली का आयोजन एवं तत्कालीन उपायुक्त व्यासजी को लाने में जग्गी भाई का अहम योगदान रहा है। कतरास से दिल्ली तक पदयात्रा उनका अहम कार्यक्रम था। एक मजबूत इच्छाशक्ति के धनी जग्गी भाई को कोटि कोटि नमन। जग्गी भाई कतरास बस स्टैंड के पीछे रहते थे और पैदल ही चला करते थे। मैं जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार से मांग करता हूं कि कतरास बस स्टैंड का नाम जग्गी भाई के नाम से ‘जग्गी भाई बस स्टैंड कतरासगढ़’ की जाय। मैं सम्बन्धित विभाग को अनुरोध पत्र भी भेजूंगा। जग्गी भाई को जय हिन्द! (लेकख-राजेन्द्र प्रसाद राजा-झामुमो के वरिए नेता)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *