February 25, 2024

सत्ता में बैठी भाजपा की केंद्र सरकार की खतरनाक मंसूबे क्या है। कैसे राष्ट्र की सरकारी उद्योगों को हिंदुत्ववादी कॉरपोरेट घरानों को कौड़ी के भाव बेचेंगे ताकि बेरोजगारी की कतार और लंबा हो, इनके लिए मजदूर विरोधी श्रम कानून को मजबूती से कॉरपोरेट घरानों के हितों में लागू कर सस्ते दरों में मजदूर मुहैया करा सके। तीन राज्यों में भाजपा की जीत इनकी खतरनाक इरादे को मजबूत करेगा।

धनबाद: रविवार 10 दिसंबर को सीटू जिला कमिटी की बैठक बीसीकेयू कार्यालय जगजीवन नगर धनबाद में संपन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए सीआईटीयू राज्य महासचिव साथी विश्वजीत देव ने कहा है कि श्रमिक यूनियन और किसान मोर्चा संयुक्त रूप से रांची में राज्य स्तरीय किसान मजदूर का महापड़ाव के आगे का आंदोलन पर चर्चा करते हुए कहा कि महापड़ाव का संदेश है कि केंद्र की मोदी सरकार जो जन विरोधी, उद्योग विरोधी और राष्ट्र विरोधी है, जिसे परास्त करना होगा। इन नीतियों के खिलाफ सीटू अब मजदूरों के पास जाकर बताएगी कि सत्ता में बैठी भाजपा की केंद्र सरकार की खतरनाक मंसूबे क्या है। कैसे राष्ट्र की सरकारी उद्योगों को हिंदुत्ववादी कॉरपोरेट घरानों को कौड़ी के भाव बेचेंगे ताकि बेरोजगारी की कतार और लंबा हो, इनके लिए मजदूर विरोधी श्रम कानून को मजबूती से कॉरपोरेट घरानों के हितों में लागू कर सस्ते दरों में मजदूर मुहैया करा सके। तीन राज्यों में भाजपा की जीत इनकी खतरनाक इरादे को मजबूत करेगा। इनकी खतरनाक इरादे को कोई रोक सकता है, तो मजदूर – किसानों की एकजुटता और जन संघर्ष। बैठक में जिला सचिव साथी मानस चटर्जी ने अपना रिपोर्ट रखते हुए कहा कि इस संकट की परस्थितियों में जनवरी 2024 में होने जा रही सीटू जिला सम्मेलन श्रमिक आंदोलन का दिशा तय करेगी। इसमें लगभग ढाई सौ प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे, जो ट्रेड यूनियनों के संघर्ष को नया ऊंचाई देगा। बैठक की अध्यक्षता सीटू जिला उपाध्यक्ष साथी सुरेश प्र गुप्ता ने किया, जबकि बैठक में सीटू राज्य कमिटी से साथी सुंदर लाल महतो तथा साथी हराधन रजवार  के अलावे हरि प्रसाद पप्पू, सन्तोष कु घोष, भारत भूषण, उदय सिंह, राजेन्द्र प्रसाद राजा, सपन माजी, राम कृष्णा पासवान, योगेंद्र महतो, गणेश धर, सुनिल पासवान, गौतम प्रसाद, प्रबीर, सुजय,लीलामय गोस्वामी तथा कई अन्य साथी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *