February 25, 2024

बोल संस्कृति के निदेशक अनुपम दास ने बताया की शांति निकेतन में चार पुस्तों से वह बोल संस्कृति से जुड़े हुए हैं और पूर्वजों के साथ रविंद्र नाथ टैगोर का बाउल संस्कृति के संगीत के संबंध में परामर्श के तौर पर गहरा संबंध था। तब से वर्तमान तक देश के राज्यों एवं विदेशों में भी प्रस्तुतियां पेश कर सम्मान प्राप्त कर चुके हैं।

धनबाद: हीरापुर, भिस्तीपाड़ा रोड स्थित लिंडसे क्लब में मंगलवार को पौष पार्बन उत्सव का यादगार समापन समारोह संपन्न हुआ। आज उत्सव के अंतिम और समापन पर शांतिनिकेतन की बोल संस्कृति की मंडली ने अनुपम दास के निर्देशन में बहुत ही आकर्षक कर्नप्रिया गीत संगीत पर श्रोताओं को झुमाया एवं साथ ही गाने गुनगुनाने झूमने को विवश किया।

लिंडसे क्लब के सभागार में शांति निकेतन के बाउल मंडली हारमोनियम में बोधन दास, दोतारा में सुकांतो दास, बांसुरी में दिलीप लोहार, तबला में सुदीप दास, मंदिरा वादन में विश्वजीत भक्तों ने देखेछी रूप सागोरे… तोमाय रिद्ध माझारे राखबो… आनंदो बा जारे चोले जाओ.. की प्रस्तुतियों ने शांतिनिकेतन की बाउल संस्कृति संगीत का अहसास दिलाया। बोल संस्कृति के निदेशक अनुपम दास ने बताया की शांति निकेतन में चार पुस्तों से वह बोल संस्कृति से जुड़े हुए हैं और पूर्वजों के साथ रविंद्र नाथ टैगोर का बाउल संस्कृति के संगीत के संबंध में परामर्श के तौर पर गहरा संबंध था। तब से वर्तमान तक देश के राज्यों एवं विदेशों में भी प्रस्तुतियां पेश कर सम्मान प्राप्त कर चुके हैं। समापन पर स्थानीय कलाकारों द्वारा एक से बढ़कर एक सांस्कृतिक गीत संगीत एवं नृत्य की प्रस्तुतियां पेश की गई। क्लब के अध्यक्ष अमलेंदु सिन्हा ने सभी अतिथियों,श्रोताओं एवं विशेष रूप से मीडिया का पौष पार्बन उत्सव की सफलता के लिए हार्दिक समर्थन एवं सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। सचिव डी के सेन ने क्लब के सभी सदस्यों एवं सदस्याओं को उनके योगदान के लिए आभार वयक्त कर अगले वर्ष और भी भव्य पौष पार्बन उत्सव मनाने का शपथ लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *