Sunday, June 23, 2024
HomeबलियापुरBALIYAPUR | बांस शिल्पियों का चल रहे 2 माह का प्रशिक्षण शिविर...

BALIYAPUR | बांस शिल्पियों का चल रहे 2 माह का प्रशिक्षण शिविर का सांसद पीएन सिंह ने किया उद्घाटन

DHANBAD | बुधवार को बेलगढिया बलियापुर में कार्यालय विकास आयुक्त (हस्तशिल्प), वस्त्र मंत्रालय, भारत सरकार, हस्तशिल्प सेवा केंद्र, देवघर द्वारा समर्थ योजनान्तर्गत बांस शिल्पियों के लिए 02 माह का चल रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन एवं निरीक्षण मुख्य अतिथि सांसद पशुपतिनाथ सिंह द्वारा किया गया। मौके पर सहायक निदेशक (हस्तशिल्प) भुवन भास्कर द्वारा मुख्य अतिथि का स्वागत सिल्क निर्मित शॉल एवं बांस शिल्प देकर किया।कार्यक्रम में हस्तशिल्पियों के बीच विकास आयुक्त (हस्तशिल्प), भारत सरकार द्वारा संचालित समर्थ योजना के साथ- साथ विभिन्न योजनाओं जैसे मॉडल प्रोड्यूसर क्लस्टर , शिल्पी पहचान पत्र, गाँधी शिल्प बाजार, प्रदर्शनी, हस्तशिल्प हेल्पलाइन 1800-208-4800, स्वयं सहायता समूह, ई-कॉमर्स पोर्टल- indianhandmade.com, मुद्रा लोन, इत्यादि विषयों पर विस्तृत इत्यादि पर विस्तृत चर्चा की गई। मुख्य अतिथि पशुपतिनाथ सिंह ने समर्थ प्रशिक्षण कार्यक्रम का तारीफ किया और शिल्पियों द्वारा कम समय में इतने अच्छे उत्पाद बनाने पर खुश दिखे। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में धनबाद के निर्मित बांस के उत्पाद देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अपनी अलग पहचान बनाएंगे। पशुपतिनाथ सिंह ने कारीगरों के लिए पलानी पंचायत स्थित बेलगरिया ग्राम में वर्कशेड निर्माण का आश्वासन भी दिया ताकि प्रशिक्षण के बाद सतत आमदनी सुनिश्चित किया जा सके।सहायक निदेशक हस्तशिल्प श्री भुवन भास्कर ने कहा कि प्रशिक्षण का पूरा खर्च केंद्र सरकार वहन कर रही है एवं सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूर्ण करने वाले सभी कारीगरों को दो माह के स्टाइपेंड रूप में पंद्रह हजार रुपए प्रदान किए जाएंगे। योजना की निगरानी और सफलतापूर्वक कार्यान्‍वयन के लिए केंद्रीकृत आधार लिंक्ड बॉयोमेट्रिक प्रणाली का उपयोग किया जा रहा है । आई आई टी धनबाद से डॉ आकांक्षा सिन्हा और बैंक ऑफ इंडिया बेलगारिया के ब्रांच मैनेजर आशीष कुमार ने हस्तशिल्पियो के लिए संचालित योजनाओं के जानकारी साझा किया।मौके पर सांसद प्रतिनिधि नितिन भट्ट, प्रशिक्षण अधिकारी विकास कुमार, कैमेलिया चौधरी, घनश्याम ग्रोवर, सहित बलियापुर प्रखंड के बेलगारिया एवं घोंघाबाद के 80 से अधिक बांस शिल्पी उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments